मातृत्व- एक अहसास

मातृत्व- एक अहसास   वेद व्यास के अनुसार “पितुरप्यधिका माता गर्भधारण पोषणात् । अतोहि त्रिषु लोकेषु नास्ति मातृ समो गुरु:।”अर्थात् गर्भधारण करने और पालन पोषण करने के कारण माता का स्थान…

Continue Reading मातृत्व- एक अहसास

अकेला हूँ मैं

अकेला हूँ मैं वो  मृगतृष्णा का मंज़र वह जेहन में भरी आस एक नितांत अनबुझी सी प्यास क्योंकि ... अकेला हूँ मैं । बोलता हूँ, सुनता हूँ, टाल जाता हूँ…

Continue Reading अकेला हूँ मैं

ये खाएं – कोलेस्ट्रॉल भगाएं

ये खाएं - कोलेस्ट्रॉल भगाएं क्या है कोलेस्ट्रॉल : कोलेस्ट्रॉल एक तरह का मोमनुमा पदार्थ होता है जो लीवर में बनता है और शरीर में अच्छे सेल्स बनाने में मदद…

Continue Reading ये खाएं – कोलेस्ट्रॉल भगाएं

माँ

माँ     छोटा सा शब्द है- ‘माँ’ । अपने अंदर भावनाओं से परिपूर्ण खुद पसीने से सराबोर, लेकिन अपने आँचल की छाँव में, कोमल स्नेहलता से संभालती, अपने स्नेहमयी…

Continue Reading माँ

अजनबी शहर के अजनबी रास्ते

अजनबी शहर के अजनबी रास्ते   अजनबी शहर के अजनबी रास्ते खोजते हैं हमें देखते हैं कहां कल थे हम जहां पर वो तो थे हम कल उनके वास्ते  अजनबी…

Continue Reading अजनबी शहर के अजनबी रास्ते

धोनी के 39वें जन्मदिन पर विशेष

धोनी के 39वें जन्मदिन पर विशेष   प्रदीप्यमान देदीप्यमान उदीप्यमान, मान हो तुम देश के । बुद्धिमान कीर्तिमान शक्तिमान, आन हो तुम खेल के । ।      

Continue Reading धोनी के 39वें जन्मदिन पर विशेष

कसक

  कसक आज आंखों में कसक है पर सब चुप क्यों हैं क्या आज भी कोई  तूफान आने वाला है।  कई बार तुझे समझाया है ए दिल तू खेल मत…

Continue Reading कसक

जीवन ज्योति

जीवन ज्योति   उठो जीवन ज्योति प्रदत्त करो नई योजना नई नीति निर्माण करो l विकास का आधार सवारों इसे जीवन रीति प्रदत्त करो l चलो पुनः निर्माण की ओर…

Continue Reading जीवन ज्योति

सब ठीक कर दो

कोरोना ने हम सभी को दु:खी कर रखा है, लेकिन सबसे ज़्यादा इससे जो प्रभावित हुए हैं -वो हैं हमारे-आपके बच्चे। इसी कोरोना से परेशानहाल बच्चे 'सारा' के अंतर्मन से निकली हुई रचना है "सब ठीक कर दो"।

Continue Reading सब ठीक कर दो

गांधी तुझे आना होगा

एक बार फिर गांधी तुझे आना होगा....   पहले हम मुसलमानों के फिर अंग्रेजों के, आजादी के बाद नेताओं के गुलाम आज फिर आजादी हमें दिलाना होगा  एक बार फिर…

Continue Reading गांधी तुझे आना होगा

उधार

कुछ चांद उधार लेता   कुछ तारे उधार लेता ।        आसमां तक जाकर कुछ फ़लक उधार लेता । कुछ राहें उधार लेता निगाहें उधार लेता ।    …

Continue Reading उधार