You are currently viewing जाना है बहुत दूर

जाना है बहुत दूर

बचपन की बातें
उन्मुक्त से तराने ।
आज कहीं खो गए
जिम्मेदारियों के बोझ तले
उम्र के सफर
हर मोड़ पर
जब
तन्हा होता है
कठिन होता है वो वक्त….
जब हमारी सोच-ए-समझ
हो जाते हैं शांत…. बिल्कुल शांत ।
वो तन्हा वक्त
हमें याद दिलाता है
अपने अच्छे बुरे फसाने….
शायद
बताना चाहता है
अभी लंबा है सफर
कठिन है डगर
पर
जाना है बहुत दूर
जाना है बहुत दूर….

अपनों के साथ शेयर करें

This Post Has 2 Comments

  1. shubh

    nice poem

Comments are closed.