बिटिया रानी

बिटिया रानी

कुलदीपक की बन मैं बाती,
                  लौ से रौशन चमन हमारा;
जन्म मुझे दो मैया मोरी,
               कण कण में फैले उजियारा।
मुस्कान सुनहरी,चक्षु हठीले,
                 कभी न होगा नीर नयन में;
चमक देख इतराओगे तुम,
                   इठलाऊंगी घर आंगन में।
कदम उठें,चढ़ विद्या की सीढ़ी,
                     राह रुके ना बोलो दादी;
फुदक-फुदक कर पंख पसारुं,
                 न पंख कुतरने सोई खादी।
लक्ष्य नहीं है कोई ऐसा,
                      भेदन मैं न कर पाऊंगी;
नवरात्रों की कहते दुर्गा,
                     कन्याभोजन में आउंगी।
थककर बोझिल पिता हों मेरे,
                   समझाऊंगी, कहते नानी;
लाठी बनूं बुढ़ापे का मैं,
                  बिटिया मेरी बड़ी सयानी।
हाथ बटाउं संग तुम्हारे,
                लाज, हया का आंचल मेरा;
अंसुवन सुखे, नया है जीवन,
                  छोड़ चलूं गलियां चौबारा।
प्रस्फुटित है प्रेम की धारा,
              सहनशील बरगद का सपना;
प्राकृतिक हक की राग अलापूं,
               आंख दिखाता कोई अपना।
त्याग, तपस्या संयम गहना,
              असुर मिलें तो बनूंगी कारी;
अंगारे है,मोह समर्पण,
                     तीली दिया सलाई नारी।
चीरहरण बरगद के नीचे,
                    लाज बचाये थे त्रिपुरारी;
कान्हा कोई राह में मेरे,
              कुत्सित विचार वासना भारी।
शिकवा गिला नहीं है जग से,
                  दिल छोटा है छोटी आशा;
दोनों कुल का जतन करूं मैं,
                 जन्म मेरा मेरी अभिलाषा।

Image by talib abdulla from Pixabay

1+
अपनों के साथ शेयर करें