जीवन ज्योति

जीवन ज्योति   उठो जीवन ज्योति प्रदत्त करो नई योजना नई नीति निर्माण करो l विकास का आधार सवारों इसे जीवन रीति प्रदत्त करो l चलो पुनः निर्माण की ओर…

Continue Reading जीवन ज्योति

गांधी तुझे आना होगा

एक बार फिर गांधी तुझे आना होगा....   पहले हम मुसलमानों के फिर अंग्रेजों के, आजादी के बाद नेताओं के गुलाम आज फिर आजादी हमें दिलाना होगा  एक बार फिर…

Continue Reading गांधी तुझे आना होगा

उधार

कुछ चांद उधार लेता   कुछ तारे उधार लेता ।        आसमां तक जाकर कुछ फ़लक उधार लेता । कुछ राहें उधार लेता निगाहें उधार लेता ।    …

Continue Reading उधार

मेरी यादें

मैं न चला टूट कर, परछाइयां चली । मुझसे आगे मेरी, रुसवाईयां चली ।।   फिर घाव हरे होकर, मुझको लगे सताने । शोले भड़क उठे फिर पुरवाइयां चली ।।  …

Continue Reading मेरी यादें

तन्हाई

हर सुबह एक नई गमोसाज से मुलाकात होती । शाम होती तो तन्हाई में उसी से बातें होती । उनकी मुलाकात मेरी जिंदगी की सौगात होती । वो न होती…

Continue Reading तन्हाई

जीवन क्या है

जन्म से मृत्यु तक सुबह से रात तक पूर्व से पश्चिम तक पाताल से आकाश तक सभी खोज रहे हैं कि जीवन क्या है !!! डिग्रीयां ले लीं आधुनिकता की…

Continue Reading जीवन क्या है