सलवटें

जिंदगी की सच्चाइयों के बीच झांकते हुए देखा है कुछ मासूम चेहरों को ज़िन्दगी की कडुवाहट में सने देखा है कुछ पुराने चेहरों को ज़िन्दगी की राहों में चलने के…

Continue Reading सलवटें

चंद्र यात्रा

चंद्रयान २ ने चांद की कक्षा में परिक्रमा लगाते हुए,एक वर्ष में 4400 परिक्रमाएं पुरी कर ली है,यान के सभी आठ आन-बोर्ड उपकरण भी अच्छा काम कर रहें हैं। चंद्रयान-२ का प्रक्षेपण सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से 22 जुलाई 2019 में किया गया, भारतीय वैज्ञानिकों ने, इसरो की ताकत से सम्पूर्ण विश्व में भारत का परचम लहराया। देश के वैज्ञानिकों की उपलब्धि से प्रभावित हो, मैंने यह रचना की थी।

Continue Reading चंद्र यात्रा

निशां

कई बार मैंने सोचा इस प्यार का क्या करें कि मुझे  लूटा है दोस्त बनकर बार-बार दिखा के ख्वाब  तुम्हारा जिसने मजबूर कर दिया रोका तो नाम लेना पड़ा मुझे…

Continue Reading निशां

आज़ादी

हुंकार थी बाबू कुंवर की, मंगल ने मंगल गान किया, कारतूस थे चर्बी वाले, मतवालों ने संकल्प लिया, सन् सत्तावन की गाथा है, चमक उठी तलवारों की, कहानी लहू के…

Continue Reading आज़ादी

अस्तित्व

हर व्यक्ति ने संसार में अगर खोजा है तो वह है अपना अस्तित्व प्रकाश की चकाचौंध में तुम्हें अंधकार अस्तित्वहीन लगता है पर अंधकार के बिना प्रकाश के अस्तित्व को खोजो…

Continue Reading अस्तित्व

सूख जाते हैं अश्रु

नादान युवा उम्र चौंतिस, प्रतिभा का विलक्षण, शोहरत के शिखर पर, मुस्कान थी अच्क्षुण, बरगद के छांव तले, प्रस्फुटित कोपलों का अंत, वंश का दंश नासूर है, बिरले होते हैं…

Continue Reading सूख जाते हैं अश्रु

…उधार लेते हैं

कभी गुजरते थे दिन, सोचने में अब तो याद भी नहीं आता कभी हम भी थे तेरे परवाने अब रोशनी भी उधार लेते हैं. किसको फुर्सत है यहां जो पिछला…

Continue Reading …उधार लेते हैं

आशिकी

काश मौत से मेरी आशिकी होती, कुछ इश्क़ होता कुछ दिल्लगी होती, साथ अपने संजोए होते न जिंदगी के ख्वाब- हमराही मेरी राह में मौत के फरिश्ते होते। जिंदगी की…

Continue Reading आशिकी

जिंदगी

जिंदगी एक उपन्यास है, एक अधूरी पढ़ी किताब है,  ना जाने क्या लिखू इसमें, कुछ नये अनसुने शब्दो कि तलाश है।  उम्मीदो के सहारे लिख रहा हूँ, मैं ये एहसास…

Continue Reading जिंदगी

आलस्य

कहां से शुरू करता, उसे …. उस रफ्तार से भागते शहर से ? जहां शायद कोई सो न सका हो; या किसी वीरान सी  उजाड़ बस्ती से ? जहां उसे अपनी…

Continue Reading आलस्य