सलवटें

जिंदगी की सच्चाइयों के बीच झांकते हुए देखा है कुछ मासूम चेहरों को ज़िन्दगी की कडुवाहट में सने देखा है कुछ पुराने चेहरों को ज़िन्दगी की राहों में चलने के…

Continue Reading सलवटें

निशां

कई बार मैंने सोचा इस प्यार का क्या करें कि मुझे  लूटा है दोस्त बनकर बार-बार दिखा के ख्वाब  तुम्हारा जिसने मजबूर कर दिया रोका तो नाम लेना पड़ा मुझे…

Continue Reading निशां

अस्तित्व

हर व्यक्ति ने संसार में अगर खोजा है तो वह है अपना अस्तित्व प्रकाश की चकाचौंध में तुम्हें अंधकार अस्तित्वहीन लगता है पर अंधकार के बिना प्रकाश के अस्तित्व को खोजो…

Continue Reading अस्तित्व

…उधार लेते हैं

कभी गुजरते थे दिन, सोचने में अब तो याद भी नहीं आता कभी हम भी थे तेरे परवाने अब रोशनी भी उधार लेते हैं. किसको फुर्सत है यहां जो पिछला…

Continue Reading …उधार लेते हैं

आशिकी

काश मौत से मेरी आशिकी होती, कुछ इश्क़ होता कुछ दिल्लगी होती, साथ अपने संजोए होते न जिंदगी के ख्वाब- हमराही मेरी राह में मौत के फरिश्ते होते। जिंदगी की…

Continue Reading आशिकी

आलस्य

कहां से शुरू करता, उसे …. उस रफ्तार से भागते शहर से ? जहां शायद कोई सो न सका हो; या किसी वीरान सी  उजाड़ बस्ती से ? जहां उसे अपनी…

Continue Reading आलस्य

…छोड़ जाते

वो हमारे सुकून का सामां छोड़ जाते, हमारे अश्क और अपने कदमों के निशां छोड़ जाते । हम छोड़ देते जहां उनको पाने के बाद, अपने मिलने का कोई मुकां…

Continue Reading …छोड़ जाते

नाख़ुदा

नाख़ुदा  हर ज़ख्म हँसकर कोई, जज़्ब करना सिखा दे।   रूठी हुई जिंदगी को कोई, हँसना सिखा दे।   अश्कों से सागर भर दिए, हमने कुछ इस तरह-  पलकों को बंद करके उन्हें, कोई थमना…

Continue Reading नाख़ुदा

अकेला हूँ मैं

अकेला हूँ मैं वो  मृगतृष्णा का मंज़र वह जेहन में भरी आस एक नितांत अनबुझी सी प्यास क्योंकि ... अकेला हूँ मैं । बोलता हूँ, सुनता हूँ, टाल जाता हूँ…

Continue Reading अकेला हूँ मैं

अजनबी शहर के अजनबी रास्ते

अजनबी शहर के अजनबी रास्ते   अजनबी शहर के अजनबी रास्ते खोजते हैं हमें देखते हैं कहां कल थे हम जहां पर वो तो थे हम कल उनके वास्ते  अजनबी…

Continue Reading अजनबी शहर के अजनबी रास्ते

कसक

  कसक आज आंखों में कसक है पर सब चुप क्यों हैं क्या आज भी कोई  तूफान आने वाला है।  कई बार तुझे समझाया है ए दिल तू खेल मत…

Continue Reading कसक